नई दिल्ली । पाकिस्तान के चुनाव आयोग ने प्रधानमंत्री एवं पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के प्रमुख इमरान खान को निर्धारित समय में पार्टी के आंतरिक चुनाव नहीं कराने पर कारण बताओ नोटिस जारी किया है। यह जानकारी मीडिया की खबरों से मिली। पाकिस्तान चुनाव आयोग (ईसीपी) ने नोटिस में इस साल 13 जून को होने वाले पार्टी के आंतरिक चुनाव नहीं कराने के लिए पीटीआई प्रमुख से कारण पूछा है।

उनसे 14 दिनों में जवाब देने को भी कहा गया है।

'जियो न्यूज़ की खबर के मुताबिक, पीटीआई के अलावा, ईसीपी ने दो अन्य पार्टियों को भी आंतरिक चुनाव नहीं कराने के लिए कारण बताओ नोटिस जारी किया है जिसमें प्रतिबंधित तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान (टीएलपी) और बलूचिस्तान अवामी पार्टी शामिल है।

बता दें कि पाकिस्‍तान चुनाव अधिनियम के तहत, सभी राजनीतिक पार्टियों को समय-समय पर अनिवार्य रूप से पार्टी में आंतरिक चुनाव कराने की जरूरत पड़ती है। लेकिन चुनाव आयोग के नोटिस के मुताबिक, इमरान खान 13 जून को पाकिस्‍तान चुनाव आयोग को पार्टी के अंदरूनी चुनावों का ब्यौरा देने में नाकाम रहे।

खबर में कहा गया है कि नोटिस के अनुसार, खान 13 जून को ईसीपी को पार्टी के अंदरूनी चुनावों का ब्यौरा देने में नाकाम रहे। चुनाव अधिनियम के तहत, सभी राजनीतिक पार्टियां समय पर पार्टी के आंतरिक चुनाव कराने के लिए बाध्य हैं।


ईसीपी ने 14 दिनों के भीतर प्रधानमंत्री से जवाब मांगा, चेतावनी दी कि अगर नोटिस का जवाब नहीं दिया गया तो चुनाव आयोग "कानून के तहत आगे की कार्रवाई करेगा"। चुनाव आयोग ने कहा कि एक राजनीतिक दल को पार्टी के एक पदाधिकारी द्वारा हस्ताक्षरित एक प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने की आवश्यकता होती है, जिसमें यह आश्वासन दिया जाता है कि चुनाव राजनीतिक दल के संविधान और चुनाव अधिनियम के अनुसार हुए थे। लेकिन पीटीआई 13 जून, 2021 को होने वाले अंतर-पार्टी चुनावों के संचालन के संबंध में प्रमाण पत्र प्रदान करने में विफल रही.