नई दिल्ली। इंग्लैंड की सरजमीं पर भारतीय टीम लंबे समय तक संघर्ष करती रही है। शुक्रवार 1 जुलाई 2022 का दिन भी टीम इंडिया के लिए ऐसा ही कुछ नजर आ रहा था, क्योंकि भारतीय टीम ने 98 रन पर 5 विकेट खो दिए थे। ऐसे में लग रहा था कि शायद ही टीम इंडिया 200 रन के आसपास पहुचेंगी, लेकिन ऋषभ पंत और रविंद्र जडेजा को ये मंजूर नहीं था। उन्होंने न सिर्फ टीम को 200 के पार पहुंचाया, बल्कि 32 साल बाद कमाल भी कर दिखाया।


दरअसल, टीम इंडिया ने बर्मिंघम के एजबेस्टन में खेले जा रहे पांचवें टेस्ट मैच के पहले दिन 7 विकेट खोकर 73 ओवरों में 338 रन बनाए। 1990 के बाद ऐसा पहली बार था, जब भारत की टीम ने इंग्लैंड में टेस्ट मैच के पहले दिन 330 से ज्यादा रन बनाए। इससे पहले ओवल में भारत ने 324 रन पहले दिन चार विकेट खोकर बनाए थे, लेकिन अब इस रिकॉर्ड को भारत ने तोड़ दिया है। इसके पीछे का प्रमुख कारण ऋषभ पंत थे।

विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत ने चोट से जूझते हुए 111 गेंदों में 20 चौके और 4 छक्कों की मदद से 146 रन की पारी खेली। इस दौरान उनका स्ट्राइकरेट 131.53 का था। इसके अलावा रविंद्र जडेजा 163 गेंदों में 10 चौकों की मदद से 83 रन बनाकर नाबाद लौटे। इन्हीं दो बल्लेबाजों के दम पर भारत ने 330 रन का आंकड़ा पार किया, जो अपने आप में ऐतिहासिक है। इसके अलावा छठे विकेट के लिए पंत और जडेजा के बीच 222 रन की साझेदारी हुई, जो इंग्लैंड में भारत की छठे विकेट के लिए सबसे बड़ी साझेदारी है।