नई दिल्ली । टोक्यो ओलंपिक के मेंस हॉकी इवेंट का पहला सेमीफाइनल मुकाबला भारत और बेल्जियम के बीच खेला गया। दोनों टीमों के बीच काफी कड़ा मुकाबला देखने को मिला। तीसरे क्वार्टर तक स्कोर 2-2 की बराबरी पर था, लेकिन चौथे क्वार्टर में बेल्जिम ने जबर्दस्त पलटवार किया और भारत पर 5-2 से जीत दर्ज की।

टोक्यो ओलंपिक में बेल्जियम के हीरो रहे एलेक्जेंडर हेंड्रिक्स ने तीन गोल किए। बेल्जियम की ओर से पहला गोल लॉकी ल्यूपार्ट ने किया था। भारत के लिए दो गोल हरमनप्रीत और मनदीप सिंह ने किए।

दो क्वार्टर के बाद स्कोर 2-2 की बराबरी पर था। तीसरे क्वार्टर में एक भी गोल नहीं हो सका, लेकिन आखिरी क्वार्टर में बेल्जियम की ओर से तीसरा गोल हुआ। मैच में पहले आठ मिनट के अंदर कुल तीन गोल हो गए थे। पहले क्वार्टर में भारतीय टीम ने 2-1 से बढ़त बनाई हुई थी, लेकिन दूसरे क्वार्टर में बेल्जियम ने बराबरी का गोल दाग दिया। बेल्जिमय की ओर से मैच का पहला गोल दूसरे मिनट में ही दागा गया, इसके बाद भारत की ओर से बराबरी का गोल 7वें मिनट में हरमनप्रीत सिंह ने किया।

भारत को पेनल्टी कॉर्नर मिला और हरमनप्रीत ने इसका पूरा फायदा उठाते हुए, इसको गोल में तब्दील कर भारत को 1-1 की बराबरी पर ला दिया। फिर 8वें मिनट में मनदीप सिंह ने शानदार बैकहैंड शॉट से भारत की ओर से दूसरा गोल दागा। पहले क्वार्टर के बाद भारत 2-1 से आगे था, दूसरे क्वार्टर में बेल्जियम की ओर से बराबरी का गोल दागा गया। तीसरे क्वार्टर में एक भी गोल नहीं हुआ, दोनों टीमें गोल के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगाती नजर आईं, लेकिन किसी को भी कामयाबी नहीं मिली। चौथे क्वार्टर में बेल्जियम की टीम पूरी तरह से हावी नजर आई और उनके हमलों का भारतीय टीम के पास कोई जवाब नहीं दिखा। तीसरे क्वार्टर तक स्कोर 2-2 की बराबरी पर रहने के बाद भारतीय टीम को 2-5 से हार का सामना करना पड़ा। बेल्जिमय इस जीत के साथ फाइनल में पहुंच गया, जबकि भारतीय टीम का गोल्ड मेडल जीतने का सपना टूट गया।


भारतीय टीम अब ब्रोन्ज मेडल के लिए खेलेगी। दूसरा सेमीफाइनल ऑस्ट्रेलिया और जर्मनी के बीच खेला जाना है। जो टीम जीतेगी वह बेल्जियम के साथ फाइनल मैच में खेलेगी और जो टीम हारेगी वह भारत के साथ ब्रोन्ज मेडल के लिए खेलेगी।