नई दिल्ली | पाकिस्तान और दक्षिण अफ्रीका के बीच खेले गए वनडे सीरीज के दूसरे मैच में उस समय काफी बवाल देखने को मिला, जब प्रोटियाज टीम के विकेटकीपर क्विंटन डिकॉक ने पाक के सलामी बल्लेबाज फखर जमां को रनआउट करके उनकी 193 रनों की मैराथन पारी का अंत कर दिया।

फखर के आउट होने के साथ पाकिस्तान के इस मैच में जीत दर्ज करने की संभावना लगभग खत्म हो गई और टीम को 17 रनों से हार का सामना करना पड़ा। इस मैच के बाद पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने डिकॉक की खेल भावना पर सवाल उठाए थे और अब उन्होंने मैच रेफरी को भी आड़े हाथ लिया है।

अख्तर ने अपने यूट्यूब चैनल पर कहा कि, 'जब मैच रेफरी को रिप्ले में बार-बार सबकुछ देखने की सहूलियत है तो वे इस पर निर्णय क्यों नहीं ले पाए। आप नोबॉल या बल्ले से गेंद लगने के लिए रेफरल लेते हो आप को यहां क्रिकेट का नियम लागू करने में परेशानी क्या है। मेरी सबसे बड़ी समस्या यही है।'


शोएब ने यहां कहा कि, 'डिकॉक ने जो फखर जमां के साथ किया वह बिल्कुल भी सही नहीं था और यह खेल भावना के खिलाफ है।' उन्होंने कहा कि इसको लेकर नियम भी बनाया जा चुका है, जिसके अनुसार इस तरह की हरकत करने पर 5 रन की पेनल्टी लगाई जाती है और उस बॉल को भी दोबारा से फेंकना पड़ता है। शोएब ने कहा कि वे चाहते थे कि फखर का दोहरा शतक पूरा हो और उनको इस तरह से आउट होता देखकर उनको काफी बुरा लगा।

इस मैच में पाकिस्तान की पारी के आखिरी ओवर की पहली गेंद पर फखर जमां ने तेज गेंदबाज लुंगी एंगिडी को लॉन्ग ऑफ की तरफ खेला और दो रन के लिए कॉल किया। लॉन्ग ऑफ पर फील्डिंग कर रहे एडम मार्करम ने फुर्ती दिखाते हुए गेंद को तेजी से उठाया और बैटिंग एंड की तरफ फेंका। यहां विकेटकीपर क्विंटन डिकॉक ने फखर जमां के साथ चालाकी दिखाते हुए ऐसे इशारा किया जैसे मार्करम का थ्रो बॉलिंग एंड पर आ रहा हो, जिसके बाद फखर पीछे देखने के लिए मुड़े और बॉल डायरेक्ट स्टंप पर आकर लग गई और वे आउट हो गए।