हाजीपुर । बिहार में जहरीली शराब का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। वैशाली जिले से तीन लोगों की संदिग्ध हालत में मौत होने की खबर आ रही है। जिले के सहदेई में किसान सलाहकार समेत दो लोगों जान चली गई। दोनों आपस में रिश्तेदार थे। वहीं, महुआ में भी एक अन्य शख्स की मौत की खबर है। इसका कारण जहरीली शराब बताया जा रहा है। इनके साथ शराब पार्टी करने वाले एक अन्य शख्स की भी तबीयत बिगड़ गई।

उसकी हालत खतरे से बाहर है। बता दें कि छपरा में भी पिछले दिनों शराब पीने के बाद अब तक 13 लोगों की जान जा चुकी है और अन्य कई लोगों की आंखों की रोशनी चली गई।

जानकारी के मुताबिक महुआ थाने के भदवास निवासी विकास चौधरी की शुक्रवार देर रात करीब एक बजे मौत हो गई। इसके एक घंटे बाद ही उसके साढ़ू सुनील चौधरी ने भी दम तोड़ दिया। सुनील सहदेई के मुरौवतपुर का रहने वाला था। वह किसान सलाहकार था। बताया जा रहा है कि मृतक विकास के भाई शंभू चौधरी की भी रात में तबीयत बिगड़ी थी, जिसके बाद अस्पताल में उसका इलाज कराया गया। फिलहाल उसकी हालत खतरे से बाहर है। सूत्रों के मुताबिक इन्होंने महनार में रात को शराब पार्टी की थी।

एक अन्य महुआ अनुमण्डल के जंदाहा थाना अंतर्गत धधुआ डीह में हुई। यहां शराब पीने से एक युवक की मौत की सूचना है। मृत युवक करण कुमार ने शुक्रवार रात को उसने शराब पी थी। देर रात उसकी हालत बिगड़ गई, शनिवार सुबह उसे इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया। इस बीच रास्ते में उसने दम तोड़ दिया।

मालूम हो कि इस घटना की पुष्टि अभी प्रशासन की ओर से नहीं की गई है। सूचना पर पुलिस के अलावा विभिन्न पदाधिकारी घटनास्थल पर पहुंचकर जानकारी ले रहे हैं।

वहीं, छपरा में जहरीली शराब के चलते पिछले पांच दिनों के भीतर 13 लोगों की मौत हो चुकी है। मौत का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है। डीएम ने भी माना कि प्रारंभिक जांच में शराब पीने से मौत होने की आशंका है। 20 अन्य लोग भी शराब पीने के बाद बीमार पड़े, इनमें से 15 लोगों की आंखों की रोशनी चली गई। इनका इलाज पटना के पीएमसीएच में चल रहा है।