उरई | यूपी के कोंच के हैवान रिटायर लेखपाल रामबिहारी पर हैवानियत का तीसरा मुकदमा दर्ज हो गया। यह केस पड़ोसी युवक ने दर्ज कराया है। उसके मुताबिक रामबिहारी ने 2014 में उसके साथ पहली बार हैवानियत की थी।

उसके बाद से वीडियो दिखा कर उसे ब्लैकमेल कर रहा था।

इस पीडि़त पड़ोसी युवक के मुताबिक 2014 में वह नाबालिग था। उसे किसी काम के बहाने रामबिहारी ने घर बुलाया और कोल्ड ड्रिंक पिला दिया। कुछ देर में वह अचेत हो गया। उसके बाद उठा तो रामबिहारी ने उसे कुकर्म का वीडियो दिखा कर धमकाया। कहा कि किसी को सूचना दी तो यह वीडियो वायरल कर दूंगा। पीडि़त डर गया और चुपचाप घर चला गया। परिजनों को भी कभी सूचना नहीं दी। उसके बाद अक्सर रामबिहारी उसे ब्लैकमेल करके बुलाने लगा।


युवक ने बताया है कि उसकी जानकारी में और तमाम बच्चों को उसने शिकार बनाया। जो एक-दूसरे को जानते हैं पर वीडियो सार्वजनिक होने के भय से उन्होंने कभी मुंह नहीं खोला।

इससे पहले दो बच्चे खुद को नाबालिग बताते हुए रामबिहारी पर केस दर्ज करा चुके हैं। उनकी उम्र की तस्दीक के लिए मेडिकल परीक्षण कराया जा रहा है। रामबिहारी को 50 से ज्यादा बच्चों के यौन उत्पीड़न के आरोप में जेल भेजा गया है।

दो पीडि़त बच्चे मेडिकल को झांसी भेजे

हैवानियत का शिकार बच्चों की उम्र तय करने को पुलिस डाक्टरों की मदद ले रही है। परीक्षण के लिए उरई गए बच्चों को सीएमओ ने झांसी जिला अस्पताल भेजा है। शनिवार को उनका मेडिकल होगा। डॉक्टरों की रिपोर्ट से तय होगा कि उनकी उम्र कितनी है। परिजनों ने बच्चों नाबालिग बताया है। तहरीर में भी यही लिखाया है लेकिन पढ़े-लिखे न होने उनके पास यह साबित करने के लिए कोई अभिलेख नहीं है। इस पर दोनों बच्चों को शुक्रवार को उनके परिजनों के साथ पुलिस सुरक्षा में डाक्टरी परीक्षण के लिए झांसी भेजा गया।

नजरें झुका कानूनी प्रक्रिया से गुजर रहे

दरिंदगी का शिकार बच्चों को कानूनी प्रक्रिया के दौरान तमाम लोगों को सामने आना पड़ रहा है। नजरें झुकाए बच्चे सारी प्रक्रिया से गुजर रहे हैं लेकिन वह लेखपाल को सजा दिलाने के लिए मजबूती से डटे हैं।

बदनामी के डर से पलायन

हैवानियत के शिकार होने के बाद दो बच्चों ने हिम्मत जुटा कानून से इंसाफ मांगा, लेकिन बाकी बच्चे सहमे हैं। कई बच्चों के परिवार वालों ने अपने कदम न केवल पीछे खींच लिए बल्कि पुलिस की नजरों से बच पलायन कर गए। अब उनके घर में एक दो महिलाएं या बुजुर्ग ही बचे हैं जो कुछ भी बताने की स्थति में नहीं हैं।

ब्लैकमेल करने वाले दो युवकों से पूछताछ

आरोपित रामबिहारी के साथ वीडियो क्लिप के जरिए बच्चों को ब्लैकमेल करने वाले दो युवकों से पुलिस ने पूछताछ की है। पूछताछ में इनसे जानने की कोशिश की इनके हैवानियत से जुड़ा कोई वीडियो क्लिप उनके पास है या फिर केवल इनको डर दिखाते थे। रात भर हिरासत में रखने के बाद फिलहाल पुलिस ने इनको छोड़ दिया है। पुलिस को पता चला ता कि हैवान लेखपाल तो वीडिये क्लिप दिखाकर बच्चों को शोषण के लिए ब्लैकमेल करता था लेकिन कुछ लोग क्लिप वायरल करने की धमकी देकर उनको पैसों के लिए ब्लैकमेल करने लगे थे। यह लोग रामबिहारी को भी ब्लैकमेल कर रहे थे। बच्चों ने पुलिस को बताया था कि कुछ युवकों को उनकी वीडियो क्लिप मिल गई है। उन्होंने आरोपित लेखपाल से 25000 रुपए महीना की डिमांड की। इसके बाद उनसे भी घर से पैसा लाने के लिए दबाव डाल रहे हैं। इस पर गुरुवार शाम पुलिस ने दो युवकों को हिरासत में लिया। थाने में उनसे कई घंटे पूछताछ की गई और फिर हिदायत के बाद छोड़ दिया गया।