नई दिल्ली । क्या कोरोना की तीसरी लहर का पीक गुजर गया है? कोरोना वायरस के नए केसों में लगातार जारी कमी को देखते हुए तो ऐसा ही लगता है। देश भर में नए केसों में लगातार गिरावट जारी है और अब बीते एक दिन में 2 लाख 38 हजार नए केस ही मिले हैं। यही नहीं रिकवर होने वालों की संख्या भी काफी बड़ी है। पिछले एक दिन में देश भर में 1 लाख 57 हजार से ज्यादा लोग रिकवर हुए हैं।

फिलहाल देश भर में एक्टिव केसों की संख्या 17 लाख 36 हजार के पार है। दिल्ली, मुंबई जैसे शहरों में जिस तरह से कोरोना के नए केसों की ग्रोथ में गिरावट देखने को मिल रही है, वह राहत की बात है।


दिल्ली सरकार की ओर से कई बार यह कहा जा चुका है कि यदि नए केसों में गिरावट जारी रहती है तो फिर पाबंदियों में ढील दी जा सकती है। इसके अलावा महाराष्ट्र में भी पाबंदियों में ढील पर विचार किया जा रहा है। दरअसल देश भर में तीसरी लहर के तहत केस तो बड़ी संख्या में मिल रहे हैं, लेकिन हॉस्पिटल तक जाने वाले लोगों की संख्या कम है। देश में कोरोना के कुल केसों की तुलना में एक्टिव केसों की बात करें तो यह 4.62 फीसदी है। फिलहाल देश भर में रिकवरी रेट 94.09 फीसदी है। हालांकि दिसंबर के शुरुआती दिनों के मुकाबले यह काफी ज्यादा है।

ओमिक्रॉन वैरिएंट के देश भर में 9 हजार के करीब मामले
हालांकि बीते एक दिन में 380 लोगों की मौत हुई है, जो आंकड़ा चिंता में डालने वाला है। वहीं ओमिक्रॉन वैरिएंट की बात करें तो उसकी रफ्तार धीमी पड़ती दिख रही है। देश में उससे कहीं ज्यादा केस दूसरी लहर के लिए जिम्मेदार रहे डेल्टा वैरिएंट के ही मिल रहे हैं। देश भर में अब तक कोरोना वैरिएंट के 8,891 केस मिल चुके हैं। करीब दो महीने से ज्यादा वक्त में ओमिक्रॉन वैरिएंट के इतने ही केस मिलना इस बात का संकेत है कि यह देश में फिलहाल अनियंत्रित नहीं हैं। ओमिक्रॉन के मामलों में भी महाराष्ट्र पहले नंबर पर है।