नई दिल्ली | राजस्थान भाजपा में पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे समर्थक व विरोधी एक बार फिर आमने-सामने आ गए हैं। ताजा मामला भाजपा नेतृत्व द्वारा राजस्थान के नेताओं की बैठक के बाद उभरा है, जिसमें वसुंधरा राजे को नहीं बुलाया गया था।

इसके बाद वसुधंरा राजे समर्थकों ने सोशल मीडिया पर एक मंच बनाने की घोषणा की, जिस पर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सतीश पूनिया ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की थी। भाजपा के इस अंदरूनी कलह का असर राज्य में होने वाले तीन विधानसभा उप चुनाव पर पड़ सकता है।

भाजपा नेतृत्व फिलहाल मामले पर नजर रखे हैं। सूत्रों के अनुसार, राज्य में अभी भी वसुंधरा राजे को दरकिनार करना संभव नहीं है, लेकिन केंद्रीय नेतृत्व राज्य पर अपनी पकड़ मजबूत करना चाहता है। यही वजह है कि बीते दिनों राजस्थान के मुद्दे पर चर्चा के लिए जब प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया व अन्य प्रमुख नेता दिल्ली आए तो उनमें वसुंधरा राजे शामिल नहीं थीं। इस बैठक के बाद ही वसुंधरा राजे समर्थकों ने सोशल मीडिया पर वसुंधरा राजे समर्थक मंच बनाकर अपनी मुहिम शुरू कर दी और जिला स्तर तक इस मंच का विस्तार किया जाने लगा।

प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने इसका जोरदार विरोध किया और कहा कि पार्टी व्यक्ति नहीं संगठन से चलती है। उन्होंने कहा कि मंच से जो लोग जुड़े हैं, वह भाजपा के सक्रिय सदस्य नहीं है। इसके बाद सोशल मीडिया पर ही सतीश पूनिया समर्थक मंच भी उभरा, जिससे लगा कि अब भाजपा मंचों के जरिए राजनीति होगी। हालांकि, पूनिया ने अपने नाम से बने मंच को खारिज कर दिया और इसे सोशल मीडिया की शरारत करार दिया।

पहले भी रहा है विवाद
बीते लगभग एक दशक से भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व व वसुंधरा राजे के बीच कई बार विवाद उभरे। हालांकि, प्रदेश में वसुंधरा राजे की जनता पर मजबूत पकड़ को देखते हुए वह राज्य में पार्टी के सर्वमान्य नेता बनी रहीं। बीते लोकसभा चुनाव से पहले भी केंद्रीय नेतृत्व ने मौजूदा केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत को प्रदेश अध्यक्ष बनाना चाहा था, लेकिन वसुंधरा राजे के पक्ष में न होने से उस पर अमल नहीं हो सका था। इसके बाद मदनलाल सैनी को अध्यक्ष बनाया गया। उनके निधन के बाद सतीश पूनिया को अध्यक्ष बनाया गया है। बीते साल राजस्थान में कांग्रेस में सचिन पायलट की बगावत के समय भी भाजपा दो खेमों में बंटी नजर आई थी।