नई दिल्ली । सीबीआई की टीम ने शुक्रवार को बड़ी कार्रवाई करते हुए रत्नाकर बैंक लिमिटेड (आरबीएल) के दो सीनियर अधिकारियों को लाखों की घूस लेने के आरोप में गिरफ्तार किया है। दोनों अधिकारियों पर कथित रूप से 30 लाख रुपए की घूस लेने का आरोप है। मिली जानकारी के अनुसार, सीबीआई की टीम ने शुक्रवार को आरबीएल बैंक के दो अधिकारियों निमेश और सौरभ भसीन को गिरफ्तार किया।

निमेश अहमदाबाद में रत्नाकर बैंक लिमिटेड में एग्रो डिविजन का रिजनल हेड मैनेजर है। जबकि सौरभ पुणे में रत्नाकर बैंक लिमिटेड में रिकवरी हेड है।

सीबीआई अधिकारी ने अपने बयान में कहा कि मूल्यांकन प्रमाण पत्र जारी करने के लिए एक करोड़ रुपये का अनुचित लाभ मांगने के आरोप में दोनों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

एएनआई के मुताबिक, सीबीआई ने कहा कि शिकायतकर्ता ने अपने परिवार के 12 सदस्यों के साथ राष्ट्रीय बागवानी बोर्ड की बागवानी योजना के उत्पादन और कटाई के बाद प्रबंधन के माध्यम से वाणिज्यिक बागवानी के विकास के तहत कृषि सावधि ऋण के लिए आवेदन किया था। जिसमें सरकार 50 प्रतिशत की सब्सिडी देती है। इस स्कीम के तहत प्रति योजना के लिए अधिकतम 56 लाख रुपए प्रस्तावित है।

सीबीआई अधिकारियों ने कहा, 'सब्सिडी की अनुपलब्धता के कारण शिकायतकर्ता और उसके परिवार के सदस्यों के सभी कृषि ऋण गैर-निष्पादित संपत्ति (एनपीए) बन गए और सब्सिडी प्राप्त करने के लिए गिरवी रखी गई संपत्तियों के लिए एक मूल्यांकन प्रमाण पत्र की आवश्यकता थी। इसके लिए बैंक अधिकारियों ने इस काम के लिए शिकायतकर्ता के साथ 30 लाख रुपए की घूस मांगी थी।

सीबीआई टीम ने शिकायत के आधार पर अहमदाबाद, पुणे और दिल्ली समेत पांच जगहों पर छापेमारी की थी। सीबीआई टीम दोनों को कोर्ट में पेश करेगी। अधिकारियों के मुताबिक आगे की कार्रवाई जारी है।