प्रयागराज । आखड़ा परिषद के महंत नरेंद्र गिरि की मौत का सच जानने के लिए उनके पार्थिव का पोस्‍टमार्टम किया जा रहा है। पांच डॉक्‍टरों का पैनल यह पोस्‍टमार्टम कर रहा है। पूरी कार्रवाई की वीडियोग्राफी कराई जा रही है। रिपोर्ट मौके पर ही सील की जाएगी। पोस्‍टमार्टम के बाद भू समाधि की प्रक्रिया सम्‍पन्‍न की जाएगी। इस बीच महंत नरेन्‍द्र गिरि की मौत की जांच के लिए गठित एसआईटी ने अपना काम शुरू कर दिया है।

इस केस में नामजद आरोपी महंत नरेन्‍द्र गिरि के अलावा मंदिर से निकाले गए पुजारी को भी आरोपी बनाया जा रहा है। दोनों को बुधवार को कोर्ट के सामने पेश कर आगे की कार्रवाई की जाएगी। इसके अलावा कॉल डिटेल और बयानों के आधार पर भी इस केस में शामिल अन्य आरोपी भी प्रकाश में आ सकते हैं। इस बीच आज महंत नरेंद्र गिरि के पार्थिव शरीर का पोस्टमार्टम पांच सदस्यीय टीम कर रही है। पूरी कार्रवाई की वीडियोग्राफी हो रही है। पोस्टमॉर्टम पूरा होने के बाद समाधि की प्रक्रिया सम्पन्न की जाएगी।

नरेंद्र गिरि की मौत के बाद उनके शिष्य ने सिर्फ आनंद गिरि के खिलाफ ही मुकदमा दर्ज कराया था। जबकि नरेंद्र गिरि की सुसाइड नोट में आनंद गिरि के अलावा आद्या तिवारी और उनके बेटे संदीप को भी आरोपित किया है। इसी आधार पर एसआईटी ने आनंद गिरि के साथ आद्या तिवारी को हिरासत में ले लिया है। दोनों को गिरफ्तार करके पुलिस बुधवार कोर्ट में पेश करेगी। पुलिस के एक अफसर ने बताया कि संदीप की तलाश की जा रही है। एसआईटी इस प्रकरण से जुड़े हर पहलू को ध्यान में रखकर जांच करेगी। इसलिए एसआईटी में क्राइम ब्रांच, फोरोंसिक और सर्विलांस टीम को भी लगाया गया है ताकि जांच प्रभावित न हो।


करोड़पति सिपाही से पूछताछ

नरेंद्र गिरि के करीबी गनर रहे अजय सिंह से भी मंगलवार को पूछताछ की चर्चा रही। हालांकि उसके खिलाफ कोई आरोप-प्रत्यारोप नहीं है। कहा जाता है कि अजय और उसकी पत्नी के नाम से ही नरेंद्र गिरि ने मकान और लग्जरी गाड़ियां खरीदी थी। कुछ दिन पहले ही पूर्व आईपीएस और उनकी पत्नी ने अजय शर्मा के खिलाफ जांच कराने की मांग की थी। प्रयागराज से लेकर कौशाम्बी पुलिस तक ने इस प्रकरण में जांच नहीं की थी।