चंडीगढ़। पंजाब की सत्ता से कैप्टन अमरिंदर सिंह को किनारे लगाने के बाद उनके करीबियों को भी कैबिनेट से दूर करने की तैयारी चल रही है। पंजाब के नए-नवेले मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने मंत्रीमंडल विस्तार के लिए कल (मंगलवार को) चंडीगढ़ से चार्टर फ्लाइट से दिल्ली पहुंचे। उनके साथ पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू और दोनों उपमुख्यमंत्री भी थे।

इन्होंने राहुल गांधी के करीबी और भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) के महासचिव केसी वेणुगोपाल और पंजाब के एआईसीसी प्रभारी हरीश रावत से कैबिनेट विस्तार पर मंत्रणा की।

सूत्रों से मिल रही जानकारी के मुताबिक, पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के करीबी सहयोगियों को चन्नी मंत्रिमंडल से दूर करने की तैयारी चल रही है। राणा गुरमीत सिंह सोढ़ी और गुरप्रीत सिंह कांगड़ समेत तीन बड़े मंत्री अपना पद गंवा सकते हैं। सूत्रों ने बताया कि चन्नी के मंत्रिमंडल में पांच नए चेहरों को शामिल किया जाना है।

वेणुगोपाल के घर चली बैठक
बैठक वेणुगोपाल के आवास पर हुई जो करीब एक घंटे तक चली। पंजाब कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष कुलजीत नागरा भी विधायक परगट सिंह के साथ बैठक में शामिल हुए। बैठक के बाद रावत ने दावा किया कि पार्टी में सब कुछ ठीक है और जल्द ही नए मंत्रिमंडल की घोषणा की जाएगी।

रावत बोले- कांग्रस में ऑल इज वेल
पंजाब कांग्रेस के प्रभारी ने दिल्ली में मीडिया से कहा, "सब कुछ ठीक है और जल्द ही इसे सुलझा लिया जाएगा, चीजें सकारात्मक तरीके से आगे बढ़ रही हैं और जल्द ही नए मंत्रिमंडल की घोषणा की जाएगी।" इस बीच, विधायक परगट सिंह, जो नवजोत सिंह सिद्धू के करीबी सहयोगियों में से एक हैं, को पार्टी की पंजाब इकाई का महासचिव नियुक्त किया गया।


बैठक में मौजूद नेता के मुताबिक, जिन नामों को कैबिनेट से हटाया जाना है और जिन्हें राज्य की सोशल इंजीनियरिंग को ध्यान में रखते हुए शामिल किया जाना है, उनके नामों पर चर्चा हुई है। हालांकि, नए पंजाब कैबिनेट को लेकर अंतिम फैसला कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी करेंगी। सूत्रों ने कहा कि किसी भी निर्णय से पहले राहुल गांधी के साथ एक और दौर की चर्चा होगी और प्रक्रिया 3-4 दिनों में समाप्त हो जाएगी। मंत्रियों के नए बैच की नियुक्ति सोशल इंजीनियरिंग और जाति के संयोजन को देखते हुए की जानी है क्योंकि राज्य में कुछ महीनों में विधानसभा चुनाव होने हैं।

सोनिया ही लगाएंगी अंतिम मुहर
हालांकि कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व दिल्ली में नहीं है, लेकिन विचार-विमर्श में शामिल एक नेता ने कहा कि शीर्ष नेतृत्व से हरी झंडी मिलने के बाद बैठक में मसौदा सूची को अंतिम रूप दिया जाएगा। कुछ दिनों में मंत्रिमंडल विस्तार हो जाएगा क्योंकि सरकार द्वारा किए गए वादों और घोषणाओं को पूरा करने के लिए ज्यादा समय नहीं बचा है।


चन्नी ने सोमवार को पंजाब के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। रूपनगर के चमकौर साहिब से तीन बार के विधायक राज्य के पहले दलित मुख्यमंत्री हैं। रविवार को कई दौर की बातचीत के बाद, कैप्टन अमरिंदर सिंह के इस्तीफे के बाद, चन्नी को पार्टी आलाकमान द्वारा इस पद के लिए चुना गया था।

अमरिंदर सिंह ने शनिवार को राज्य के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित को अपना इस्तीफा सौंप दिया। आपतो बता दें कि उनके और पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी (पीपीसीसी) के प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू के बीच महीनों से खींचतान जारी थी।