भारतीय सेना के जवान रूस में एक खास युद्ध अभ्यास में हिस्सा ले रहे हैं। इस युद्ध अभ्यास को जापद-21 नाम दिया गया है। यह एक संयुक्त रणनीतिक अभ्यास है। नोवगोरोद क्षेत्र स्थित मुलिनो ट्रेनिंग ग्राउंड में हो रहे इस सैन्य अभ्यास का मुआयना करने सोमवार को रूसी राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन भी पहुंचे थे।

भारतीय जवानों ने प्रदर्शित किया अपना कौशल
इस संयुक्त युद्धाभ्यास के तहत भारतीय सेना के जवानों ने भी अपने युद्ध कौशल का नमूना दिखाया।इसमें कॉम्बैट फ्री फॉल, स्पेशल हेलीबॉर्न ऑप्स और डिफेंसिव तकनीकों का कौशल नागा रेजीमेंट ने प्रदर्शित किया। भारतीय सेना ने सोमवार को इस बारे में जानकारी दी। वहीं एनएनआई ने ट्रेनिंग क्षेत्र की तस्वीरें और वीडियो ट्वीट किया है। इमसें भारतीय सेना अपने हुनर को प्रदर्शित करती नजर आ रही है।

एमआई-17 हेलीकॉप्टर के साथ की प्रैक्टिस
इस अभ्यास के दौरान भारतीय सेना ने फायर पावर डेमो किया। भारतीय जवानों ने इस दौरान बेहतरीन युद्ध ड्रिल और फायरिंग स्किल दिखाई। वहीं नागा रेजीमेंट की घातक प्लाटून ने रूसी एमआई-17 हेलीकॉप्टर्स के साथ स्पेशल हेलीबॉर्न ऑपरेशन की प्रैक्टिस की। इस दौरान एएडी वाहनों से भी फायरिंग की गई। वहीं स्वर्म हेलीकॉप्टर से लक्ष्य के नजदीक पहुंचने की कला का प्रदर्शन किया गया।