वॉशिंगटन । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 9 अगस्त को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में समुद्री सुरक्षा को लेकर होने वाली उच्च स्तरीय डिबेट की अध्यक्षता करेंगे। वहीं विदेश मंत्री एस जयशंकर 18 और 19 अगस्त को शांति स्थापना और आतंकवाद पर प्रहार से संबंधित बैठकों की अध्यक्षता करेंगे। इसके साथ ही प्रधानमंत्री मोदी संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता करने वाले देश के पहले प्रधानमंत्री बन जाएंगे।

प्रधानमंत्री वर्चुअली इस कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे। गौरतलब है कि भारत 1 एक अगस्त, 2021 को एक महीने के लिए सुरक्षा परिषद का अध्यक्ष बना है। संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी दूत टीएस तिरुमूर्ति सोमवार को पहले दिन विभिन्न कार्यक्रमों में शामिल रहे।


तीन अहम मुद्दों पर है भारत का जोर
संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता के दौरान भारत का ध्यान तीन अहम मुद्दों पर केंद्रित है। यह मुद्दे हैं समुद्री सुरक्षा, शांति व्यवस्था और काउंटर-टेररिज्म। सोमवार को टीएस तिरुमूर्ति ने इस बात की घोषणा की। अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री इससे संबंधित कार्यक्रमों की अध्यक्षता करेंगे। गौरतलब है कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में बतौर अध्यक्ष भारत का पहला कार्य दिवस सोमवार यानी 2 अगस्त था। तिरुमूर्ति महीने भर के लिए परिषद के कार्यक्रमों पर संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में मिश्रित संवाददाता सम्मेलन करेंगे यानी कुछ लोग वहां मौजूद होंगे जबकि अन्य वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए जुड़ सकते हैं। संयुक्त राष्ट्र द्वारा जारी कार्यक्रम के मुताबिक तिरुमूर्ति संयुक्त राष्ट्र के उन सदस्यों देशों को भी कार्य विवरण उपलब्ध कराएंगे जो परिषद के सदस्य नहीं हैं।

बता दें कि सुरक्षा परिषद के एक अस्थायी सदस्य के रूप में भारत का दो साल का कार्यकाल 1 जनवरी, 2021 को शुरू हुआ। यह सुरक्षा परिषद के गैर स्थायी सदस्य के तौर पर 2021-22 कार्यकाल के दौरान भारत की पहली अध्यक्षता है। भारत अगले साल दिसंबर में फिर से सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता करेगा।