नई दिल्ली । देश कोरोना वायरस की तीसरी लहर के मुहाने पर खड़ा है। विशेषज्ञों की मानें तो इस महीने यानी अगस्त में कोरोना की तीसरी लहर का कहर देखने को मिलेगा और यह अक्टूबर में अपने पीक पर जा सकती है। हालांकि, इस बीच 10 राज्यों ने स्कूल खोल दिए हैं। इनमें से तीन राज्यों ने सोमवार से ऑफलाइन कक्षाएं शुरू की हैं। दूसरी ओर, महाराष्ट्र में दोबारा स्कूल खुलने के बाद से 613 बच्चे संक्रमित मिल चुके हैं।


महाराष्ट्र : सोलापुर में 613 स्कूली बच्चे संक्रमित
दूसरी लहर के बाद महाराष्ट्र ने सबसे पहले 15 जुलाई से उन इलाकों में कक्षा आठवीं से 12वीं तक के स्कूल खोले थे जहां संक्रमण के नए मामले नहीं आ रहे थे। इसके बावजूद सोलापुर जिले में अब तक 613 बच्चे संक्रमित पाए जा चुके हैं। इसके बाद भी राज्य में स्कूल बंदी की कोई सूचना नहीं है।

हरियाणा : सभी स्कूल खुले, अब तक 6 पॉजटिव
फतेहाबाद के दो सरकारी स्कूलों के छह बच्चों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि इन बच्चों को अलग रखा गया है। राज्य में 16 जुलाई से नौवीं से 12वीं तक की कक्षाएं और 23 जुलाई से छठी से आठवीं तक की कक्षाएं खोल दी गई हैं।


7 राज्यों में स्कूल शुरू
गुजरात : आधी क्षमता के साथ यहां नौवीं से 12वीं की कक्षाएं 25 जुलाई से चल रही हैं। 15 जुलाई को कॉलेज खोले गए थे।
ओडिशा : 10वीं और 12वीं के लिए 25 जुलाई से कंटेनमेंट जोन के बाहर के क्षेत्र के स्कूल खोले गए।
पंजाब : कक्षा 10, 11 और 12 के लिए 25 जुलाई से स्कूल खुले। प्री प्राइमरी से नौवीं तक के लिए सोमवार से स्कूल शुरू हुए।
बिहार : 12 जुलाई से यहां कक्षा 11वीं और 12वीं की कक्षाओं से लेकर कॉलेज व विश्वविद्यालय भी खोल दिए गए हैं।
मध्य प्रदेश : यहां 12वीं कक्षा के लिए स्कूल खोल दिए गए। हालांकि, निजी स्कूल 5 अगस्त तक ऑफलाइन कक्षाएं ही चलाएंगे।
छत्तीसगढ़ : 2 अगस्त से दसवीं और 12वीं के लिए कक्षाएं शुरू हो गईं।
राजस्थान : 2 अगस्त से स्कूल, कॉलेज एवं विश्वविद्यालयों को खोल दिया गया।


3 राज्यों में जल्द स्कूल खुलेंगे
आंध्र प्रदेश : 16 अगस्त से यहां आधी क्षमता के साथ प्राथमिक से लेकर 12वीं तक की कक्षाओं के स्कूल दोबारा शुरू हो जाएंगे।
गोवा : मुख्यमंत्री ने कहा है कि 10वीं-12वीं कक्षाओं के लिए 15 अगस्त से कक्षाएं शुरू हो सकती हैं।

जम्मू-कश्मीर : इस केंद्रशासित प्रदेश में 31 जुलाई के बाद बड़ी कक्षाओं के शिक्षण व कौशल प्रशिक्षण संस्थानों को खोला जाएगा।

सतर्कता : बच्चे चपेट में आए तो पुडुचेरी ने फैसला टाला
यहां 16 जुलाई से कक्षा नौवीं से 12वीं के लिए स्कूल खोले जाने थे लेकिन केंद्रशासित प्रदेश में 16 बच्चों के संक्रमित हो जाने के बाद सरकार ने फैसला टाल दिया।

पहले प्राथमिक स्कूल खोलना बेहतर होगा : आईसीएमआर
देश के चौथे सीरो सर्वे से पता चला है कि बड़ी तादाद में बच्चों के अंदर एंटीबॉडीज पैदा हो गई हैं। इसके आधार पर 20 जुलाई को आईसीएमआर के महानिदेशक प्रो. बलराम भार्गव ने स्कूल खोलने के राज्यों के फैसलों का समर्थन किया। उनका कहना था कि बड़ी कक्षाओं की जगह प्राथमिक कक्षाओं के लिए स्कूल खोलना बेहतर होगा, क्योंकि वयस्कों के मुकाबले बच्चों का शरीर संक्रमण से ज्यादा अच्छी तरह लड़ सकता है। हालांकि, ज्यादातर राज्यों ने बड़ी कक्षाओं को पहले खोला।