उत्तर प्रदेश । उत्तर प्रदेश में अगले साल विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। इसको लेकर सियासी सरगर्मियां भी शुरू हो चुकी हैं। भारतीय जनता पार्टी भी इसकी तैयारियों में जुट चुकी है। इसके लिए भाजपा ने सभी 200 विधानसभा क्षेत्रों में पहुंचने का कार्यक्रम बनाया है। पार्टी सूत्रों के मुताबिक केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल किए गए यूपी के सात नए सांसद इसमें बड़ी भूमिका निभाएंगे।

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने इसके लिए सभी 40 नए केंद्रीय मंत्रियों से ‘जन आशीर्वाद यात्रा’निकालने के लिए कहा है। यह सभी मंत्री हाल ही हुए केंद्रीय मंत्रिमंडल परिवर्तन में मोदी सरकार का हिस्सा बने हैं। यूपी से मंत्रिमंडल में शामिल हुए सभी सात मंत्रियों को भी इस बात की ताकीद की गई है।


तीन से चार संसदीय क्षेत्र कवर करेंगे
एक वरिष्ठ भाजपा नेता के मुताबिक जन आशीर्वाद यात्रा के दौरान तीन से चार संसदीय क्षेत्रों को कवर करने के लिए कहा गया है। इसमें मंत्री अपने संसदीय क्षेत्र को भी कवर करेंगे। इस तरह से हर मंत्री से कम से चार से पांच जिलों तक पहुंचेगा और लोगों से आशीर्वाद मांगेगा। वहीं प्रदेश के अन्य सांसदों को आशीर्वाद यात्रा के दौरान इन मंत्रियों की पूरी तरह से मदद करने के लिए कहा गया है। सूत्रों का दावा है कि यह आशीर्वाद यात्राएं उन सभी प्रदेशों में भाजपा के चुनावी अभियान की शुरुआत होंगी, जहां अगले साल चुनाव होने वाले हैं। उत्तर प्रदेश में यह अभियान और भी बड़े पैमाने पर चलेगा, जहां करीब 400 विधानसभाओं तक पहुंचने का लक्ष्य बनाया गया है।


गौरतलब है कि इस महीने की शुरुआत में उत्तर प्रदेश से भाजपा और सहयोगी दलों को मिलाकर कुल सात सांसदों को केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल किया गया था। इन सांसदों में, पंकज चौधरी, एसपी सिंह बघेल, भानु प्रताप वर्मा, बीएल वर्मा, अजय मिश्रा, कौशल किशोर, भाजपा की सहयोगी अपना दल की नेता अनुप्रिया सिंह पटेल शामिल हैं। इन सात में से तीन-तीन ओबीसी और एससी कैटेगरी के हैं, जबकि एक ब्राह्मण है। इस जन आशीर्वाद यात्रा के जरिए भाजपा का प्रयास है कि वह प्रदेश में जाति समीकरण का बैलेंस बनाने में कामयाब रहे।