नई दिल्ली । तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन जारी है। इस बीच हरियाणा की मनोहर लाल खट्टर सरकार के मंत्री अनिल विज ने कहा है कि यह प्रदर्शन तीन कृषि कानूनों के खिलाफ नहीं है बल्कि इसके पीछे कोई एजेंडा छिपा हुआ है।

न्यूज एजेंसी 'ANI' से बातचीत में अनिल विज ने कहा कि 'केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर हमेशा किसानों से बातचीत करने के लिए तैयार रहते हैं। 11-12 बार तो उन लोगों की मुलाकात भी हो चुकी है।

'किसान नेता कानून को लेकर अपनी आपत्तियों के बारे में नहीं बात कर रहे हैं। इससे साफ होता है कि यह आंदोलन 3 कृषि कानूनों को लेकर नहीं है बल्कि इसके पीछे इनका कोई एजेंडा छिपा हुआ है।' इससे पहले भी अनिल विज ने कहा था कि 'जब कभी किसान बातचीत करना चाहते हैं, देश की सरकार बातचीत के लिए तैयार रहेगी। लेकिन हमने उनसे बार-बार पूछा है कि वो तर्क के साथ बताएं कि कानून को लेकर उनकी समस्या क्या है? हम सुनेंगे और और एक हल निकालेंगे।'

बहरहाल आपको बता दें कि किसानों के जारी आंदोलन के बीच बुधवार को ममता बनर्जी ने भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत से मुलाकात की थी। इस मुलाकात के दौरान पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने किसानों को भरोसा दिलाया था कि उनके प्रदर्शन को उनका समर्थन जारी रहेगा। कांग्रेस नेता राहुल गांधी भी किसानों को समर्थन देने की बात कहते आए हैं। उन्होंने यह भी कहा था कि कई प्रदर्शनकारियों की प्रदर्शन स्थल पर मौत हो चुकी है फिर भी किसानों का आदंलोन जारी है।

अनिल विज ने इसके साथ ही कांग्रेस नेता राहुल गांधी के उस बयान पर भी प्रतिक्रिया दी है जिसमें कांग्रेस नेता ने निजी अस्पतालों में मुफ्त वैक्सीन नहीं लगाए जाने को लेकर सवाल उठाया था। इसपर अनिल विज ने कहा है कि 'अब राहुल गांधी हर रोज ऐसा प्रश्न निकालकर लाते हैं जिसकी वजह से इनकी पार्टी के लोग इन्हें छोड़कर जाने लगे हैं।'