नई दिल्ली | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को भारत के पहले कानून मंत्री और भारतीय संविधान के प्रमुख वास्तुकार बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि अर्पित की और उनके जीवन पर आधारित चार किताबों का विमोचन किया।

प्रधानमंत्री कार्यालय ने जानकारी दी कि पीएम मोदी मोदी ने बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर के जीवन पर आधारित चार पुस्तकें जारी की हैं, जो कि किशोर मकवाना ने लिखी हैं।

इससे पहले पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा कि समाज के वंचित वर्गों को मुख्यधारा में लाने के लिए उनका संघर्ष एक मिसाल बना रहेगा। पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा, 'भारत रत्न डॉ. बाबासाहेब अंबेडकर को उनकी जयंती पर शत-शत नमन। समाज के वंचित वर्गों को मुख्यधारा में लाने के लिए किया गया उनका संघर्ष हर पीढ़ी के लिए एक मिसाल बना रहेगा।'

इसके अलावा, अलग-अलग वीसी संग बैठक में पीएम मोदी ने कहा कि बाबा साहेब ने समान अवसरों की बात की थी, समान अधिकारों की बात की थी। आज देश जनधन खातों के जरिए हर व्यक्ति का आर्थिक समावेश कर रहा है। डीबीटी के जरिए गरीब का पैसा सीधा उसके खाते में पहुंच रहा है। बाबा साहेब के जीवन संदेश को जन-जन तक पहुंचाने के लिए भी आज देश काम कर रहा है। बाबा साहेब से जुड़े स्थानों को पंच तीर्थ के रूप में विकसित किया जा रहा है।

बता दें कि बाबा साहेब अंबेडकर का जन्म 1891 में आज ही के दिन मध्य प्रदेश के महू में हुआ था। वर्ष 1990 में उन्हें मरणोपरांत भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान 'भारत रत्न' से सम्मानित किया गया।