गोरखपुर। गोरखपुर जिले में बांसगांव इलाके के एक गांव में रविवार की रात छठ घाट से लौट रही हाईस्कूल की छात्रा को दो चचेरे भाइयों ने अगवा कर लिया। एक खाली मकान में ले जाकर दुष्कर्म किया। आरोप है कि बहन की तलाश करते हुए जब छोटा भाई मौके पर पहुंचा तो आरोपियों ने उसकी पिटाई कर दी।


पुलिस ने बेहोशी की हालत में छात्रा को सीएचसी भेजा, जहां से जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। छात्रा की हालत गंभीर बताई जा रही है। पुलिस ने बदरा गांव निवासी चचेरे भाई दीपक और उपेंद्र पर सामूहिक दुष्कर्म, मारपीट और पॉक्सो एक्ट की धारा में केस दर्ज करके गिरफ्तार किया है।

 

जानकारी के मुताबिक, करीब 17 साल की छात्रा रविवार की शाम छठ पर्व में शामिल होने के लिए घाट पर गई थी। लौटते समय आरोपी चचेरे भाइयों ने उसे पकड़ लिया। अगवा करके एक खाली मकान में ले गए और सामूहिक दुष्कर्म किया।

 

बेहोशी की हालत में छात्रा को छोड़कर आरोपी भागने ही वाले थे कि बहन को खोजता पीड़िता का भाई मौके पर पहुंच गया। आरोपियों ने 12 वर्षीय छात्रा के भाई की पिटाई शुरू कर दी। शोर सुनकर लोग एकत्र होने लगे तो आरोपी भाग गए। कुछ देर में छात्रा के परिजन पहुंच गए। छात्रा की हालत देखकर पुलिस को घटना की जानकारी दी। पुलिस ने एंबुलेंस से छात्रा को सीएचसी बांसगांव भेजा। रक्तस्राव अधिक होने से उसे जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया।

 

पीड़िता की मां की तहरीर पर पुलिस ने आरोपियों पर केस दर्ज किया है। पुलिस घटना के बाद से ही आरोपियों की तलाश में जुट गई थी। भोर में दोनों आरोपियों को दबोच लिया।

दीपक...उपेंद्र ने मेरी जिंदगी बर्बाद कर दी
जिला अस्पताल में भर्ती छात्रा घटना को याद करके कांप जा रही है। पूछने पर रोने लगती है। हर सवाल का एक ही जवाब देती है, दीपक और उपेंद्र ने मेरी जिंदगी बर्बाद कर दी। दोनों ने मेरे साथ गलत किया है। मैं चीख रही थी, रो रही थी, गुहार लगा रही थी कि छोड़ दो, लेकिन मेरी एक न सुनी। जब छोटा भाई आया तो उन्होंने उसे भी पीटा। यह कहने के बाद वह फिर फफक कर रोने लगी। मां उसे संभाल रही है, तो मासूम भाई को कुछ समझ नहीं आ रहा है कि उसके परिवार के साथ क्या हो रहा है।

एसपी साउथ अरुण कुमार सिंह ने कहा कि पीड़िता का बयान दर्ज कर लिया गया है। आरोपियों पर सामूहिक दुष्कर्म व अन्य धाराओं में केस दर्ज किया गया है। आरोपियों की गिरफ्तारी हो गई है।