फरीदाबाद। फरीदाबाद के सराय ख्वाजा मेट्रो स्टेशन पर सात अगस्त की रात करीब एक बजे बम से उड़ाने की धमकी भरा एक पत्र मिला। इससे सुरक्षा एजेंसियों में हड़कंप मच गया। सीआईएसएफ समेत हरियाणा पुलिस के आला अधिकारियों ने मोर्चा संभाल लिया। बम स्क्वायड टीम मेट्रो स्टेशन के चप्पे-चप्पे की जांच में जुट गई। जांच में पता चला कि उत्तर प्रदेश के रामबीर अपनी पत्नी को प्रेमी से अलग करने के लिए मेट्रो स्टेशन, लाल किला, हरियाणा के मुख्यमंत्री को परिवार को बम से उड़ाने की धमकी भरा पत्र स्टेशन परिसर में फेंका था।


जानकारी के अनुसार रविवार देर रात सफाई कर्मचारी स्टेशन परिसर की सफाई कर रहे थे। तभी प्लेटफार्म नंबर-1 की स्वचालित सीढ़ियों पर एक कागज दिखा। उसे उठाकर पढ़ा तो उसमें मेट्रो स्टेशन को बम से उड़ाने की धमकी लिखी थी। इसकी सूचना सुरक्षा में तैनात सीआईएसएफ के जवानों को दी। सीआईएसफ के जवान पत्र को कब्जे में लेकर आला अधिकारी, स्थानीय पुलिस और मेट्रो थाना को सूचित किया। बम स्क्वायड की टीम भी मौके पर पहुंच गई। सूत्रों की मानें, तो रातभर सुरक्षा एजेंसी की ओर से मेट्रो स्टेशन परिसर की जांच की गई। एक-एक चीज को मेटल डिटेक्टर से जांचा गया।

मामला दर्ज इसकी जांच शुरू की गई। बदरपुर क्राइम ब्रांच प्रभारी सेठी मलिक ने बताया कि मेट्रो स्टेशन को बम से उड़ाने की धमकी वाले मामले में उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद जिले के रामबीर को गिरफ्तार किया गया है। पूछताछ में आरोपी ने बताया कि उसने धमकी भरे पत्र को इसलिए फेंका, ताकि पत्नी के प्रेमी को पुलिस पकड़ सके। उसपर पत्नी के प्रेमी के मोबाइल नंबर को भी अंकित कर दिया।


युवक ने पूछताछ में कहा है कि उसने टेलीविजन पर फिल्म और सीरियल देखे थे। उसी से यह आइडिया मिला। उसने धमकी भरा पत्र लिखकर मेट्रो स्टेशन पर फेंक दिया। युवक ने बताया कि मेट्रो स्टेशन पर लगे सीसीटीवी कैमरे उसकी पहचान न हो, इसके लिए उसने मास्क लगा रखा था। साथ ही पुलिस उसकी पहचान नहीं कर सके, इसलिए वह मेट्रो स्टेशन पर लंगड़ा कर चल रहा था।

तीन दिन से चिट्ठी फेंकने की बना रहा था योजना

सूत्रों के मुताबिक, आरोपी मेट्रो स्टेशन पर तीन दिन से चिट्ठी फेंकने की योजना बना रहा था। उसने सराय ख्वाजा में किराए पर रह रही पत्नी के कमरे में पांच अगस्त को पत्र लिखा था। उसी दिन पत्र को साथ में लेकर सराय ख्वाजा में मेट्रो से ट्रेन पकड़कर दिल्ली रेलवे स्टेशन पहुंचा। वहां से ट्रेन पकड़कर यूपी के स्थित अपने गांव चला गया। पूछताछ में आरोपी ने बताया है कि इस दौरान मेट्रो स्टेशन पर चिट्ठी फेंकने की हिम्मत नहीं हुई। अगले दिन छह अगस्त को वह उत्तर परदेश से देर रात सराय मेट्रो स्टेशन की सीढ़ियों पर चिट्ठी को फेंक दिया। सीआईएसएफ को सात अगस्त की रात करीब एक बजे वह पत्र हाथ लगा।