नई दिल्ली । पूर्वी दिल्ली के शाहदरा जिले के साइबर थाने में बुधवार दोपहर एक सिरफिरे ने पांच पुलिस कर्मी व एक होमगार्ड को चाकू मार दिया। इसके बाद खुद का सिर दीवार में मारकर फोड़ लिया। घायल पुलिस कर्मी व होम गार्ड समेत आरोपी को भी अस्पताल में भर्ती कराया गया। वहीं एक हेड कांस्टेबल सुनील की हालत गंभीर होने पर एम्स के ट्रामा सेंटर में रेफर कर दिया, जहां उसकी हालत गंभीर बनी हुई है।

आरोपी 28 वर्षीय भरत भाटी बलबीर नगर का रहने वाला है। वारदात के समय वह नशे की हालत में बताया जा रहा है। पुलिस उससे पूछताछ कर मामले की जांच कर रही है।

शाहदरा थाने की तीसरी मंजिल पर जिले का साइबर थाना है। बुधवार दोपहर करीब एक बजे पुलिस कर्मी अपने काम में व्यस्थ थे। तभी आरोपी वहां पहुंचा। इस दौरान हेड कांस्टेबल 34 वर्षीय दीपक एक शिकायतकर्ता की बात सुन रहा था। बाकी अन्य पुलिस कर्मी अपना काम कर रहे थे।

आरोपी वहां पहुंचते ही मोबाइल निकलकर वीडियो बनाने लगा। वह नशे की हालत में भी लग रहा था। दीपक ने उससे वीडियो बनाने से मना किया और उसके बारे में पूछा तो वह भड़क गया और गाली गलौच करने लगा। दीपक उसे पकड़ने का प्रयास किया तो अपनी जेब से चाकू निकाल कर दीपक पर हमला कर दिया। दीपक को तीन जगह चाकू लगा।

इस देख हेड कांस्टेबल 32 वर्षीय अमित उसकी तरफ बढ़े तो उसे भी चाकू मार दिया। इसके बाद वह जीने की तरफ भागने लगा। जीने पर होमगार्ड 31 वर्षीय रवि वर्मा व 25 वर्षीय कांस्टेबल मनीष उसे पकड़ने का प्रयास किया तो उन पर चाकू से हमला कर दिया। शोर सुनकर शाहदरा थाने में तैनात हेडकांस्टेबल सुनील व कांस्टेबल नरेश उसे घेरकर पकड़ने का प्रयास करने लगे तो उसने चाकू सुनील के सीने में चाकू मार दिया। फिर उसने नरेश को कई जगह चाकू मारा।

थाने का गेट बंद कर काबू किया
छह पुलिस कर्मियों पर हमला कर वह गेट की तरफ भागने लगा। तभी पुलिस कर्मियों ने गेट बंद कर दिया और उसे पकड़ने का प्रयास करने लगे। इसे देख आरोपी ने खुद की गर्दन पर चाकू रखकर आत्महत्या की धमकी देने लगा और गले पर हल्का कट भी लगा लिया। साथ ही अपना सिर दीवार में मारने लगा। उसका सिर फट गया और खून बहने लगा। इस दौरान पुलिस कर्मियों ने उसे पकड़ लिया। तुरंत सभी घायलों को अस्पताल ले जाया गया। जहां मनीष, नरेश और आरोपी भरत को प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई। बाकी अन्य का उपचार चल रहा है। सुनील की हालत बेहद खराब होने पर उन्हें एम्स के ट्रामा सेंटर में रेफर कर दिया गया।

शाहदरा के बलबीर नगर का रहने वाला है
आरोपी भरत अपने भाई व बहन के साथ बलबीर नगर शाहदरा में रहता है। इसके माता-पिता की मौत हो चुकी है। पुलिस जांच में पता चला है कि उसके खिलाफ एक्सीडेंट का केस दर्ज है। पुलिस आरोपी से पूछताछ कर हमले का कारण पूछ रही है। हालांकि वह कारणों के बारे में कुछ नहीं बता रहा है। आरोपी ने सनक की वजह से वारदात को अंजाम देने की आशंका जाहिर की जा रही है।

थाने में जांच की गई शिकायत
हमले के दौरान अफवाह फैल कि आरोपी शिकायत देने के लिए पहुंचा था। इसी दौरान पुलिस कर्मियों से कहासुनी हो गई। लेकिन पुलिस शिकायत देने की बात से इंकार किया। साथ ही पुलिस को लगा कि शायद इसने पहले कोई शिकायत दी हो और कार्रवाई नहीं हुई। इसी को लेकर गुस्से में वारदात को अंजाम दिया हो। इसके लिए पुलिस ने साइबर थाने में शिकायतों की जांच की, मगर उसके नाम से कोई शिकायत नहीं मिली।

थाने की सुरक्षा को लेकर सवाल
इस घटना से थाने की सुरक्षा पर सवाल खड़े हो गए हैं। जबकि उस थाने में शाहदरा थाने के अलावा साइबर थाना भी है। पुलिस कर्मी गेट पर सुरक्षा में लगे रहते हैं। इसके बावजूद वह चाकू लेकर कैसे चला गया था। उसे किसी ने ऊपर तीसरी मंजिल पर जाने का कारण भी नहीं पूछा। साथ ही अगर उसके पास कोई शिकायत नहीं थी तो उसकी तलाशी क्यों नहीं ली गई। सवाल यह भी वह किसी चीज का वीडियो बना रहा था। हालांकि इन सवालों के बारे में पुलिस अधिकारी ने कोई जवाब नहीं दिया।