नई दिल्ली। दिल्ली की फतेहपुर बेरी थाना पुलिस ने छतरपुर इलाके में 25 दिसंबर को एक गहनों की दुकान में हुई चोरी के मामले में आरोपी महिला को उसके बेटे और बेटी के साथ गिरफ्तार कर लिया है।

इस परिवार का आपराधिक इतिहास है और सभी सदस्य आपराधिक प्रवृत्ति के हैं। महिला 2013 में हत्या और अपहरण के एक मामले में गिरफ्तार हुई थी। उसके दो अन्य बेटे हत्या, लूट, झपटमारी और चोरी के मामलों में जेल में बंद हैं। वहीं, पुलिस को दूसरे मामलों में महिला के दो अन्य बेटे और पति की भी तलाश है।

आरोपी महिला मिथिलेश ने अपनी बेटी दुर्गेश्वरी और बेटे चिराग के साथ मिलकर गहनों की दुकान में चोरी की वारदात को अंजाम दिया था। आरोपियों के पास से चोरी किए गए लूटे गए गहने बरामद कर लिए हैं। मिथिलेश इससे पहले भी साल 2013 में हत्या और अपहरण के मामले में जेल जा चुकी है।


डीसीपी (साउथ) अतुल कुमार ठाकुर ने बताया 25 दिसंबर को छतरपुर एंक्लेव के शंभुदयाल ने शिकायत दी थी कि उनके गहनों की दुकान पर दो महिलाएं आईं और देखने के बहाने 50 ग्राम सोने की बालियों का डिब्बा चुरा ले गईं। पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज की जांच की तो पता चला कि महिलाएं लाल रंग की स्कूटी से दुकान पर आई थीं। इसके बाद पुलिस ने आरोपियों की पहचान कर मदनगीर से आरोपी महिला और उसके बेटे-बेटी को गिरफ्तार कर लिया।

सीसीटीवी फुटेज के जरिए 15 किलोमीटर पीछा किया

पुलिस अधिकारी ने बताया कि सीसीटीवी कैमरे के सहारे करीब 15 किलोमीटर तक आरोपियों का पीछा करने पर सामने आया कि वे स्कूटी से सीमा पार कर गुरुग्राम के सिकंदरपुर चली गई थीं। इसके बाद पुलिस ने स्कूटी के नंबर और स्थानीय मुखबिरों की सहायता से मदनगीर के एफ-ब्लॉक से आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया।