नई दिल्ली। दिल्ली के द्वारका इलाके में एक सीएनजी पंप के पास मिले एक 32 वर्षीय महिला के शव के सिर और गुप्तांग पर जलने के निशान पाए जाने के कुछ दिनों बाद पुलिस ने महिला की हत्या के मामले में एक किशोर को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने कहा कि महिला एक नौकरानी थी और आरोपी 17 वर्षीय किशोर को जानती थी क्योंकि वह उसके इलाके के पास रहती थी।

पुलिस ने कहा कि प्रथम दृष्टया हत्या के पीछे का कारण दोनों के बीच तनावपूर्ण संबंध प्रतीत हो रहा है, पोस्टमॉर्टम के बाद ही मौत के कारणों का पता लग सकेगा। पुलिस को पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने का इंतजार है।

पुलिस के मुताबिक, घटना 15 नवंबर की है। किशोर ने महिला को किसी काम के बहाने अपने अपार्टमेंट में बुलाया और कथित तौर पर उसकी हत्या कर दी। पुलिस ने कहा कि फिर उसने गिरफ्तारी से बचने के लिए उसके शव को सीएनजी पंप के पास एक नहर में फेंक दिया था।

पुलिस उपायुक्त (द्वारका) शंकर चौधरी ने कहा कि पिछले सोमवार शाम 6 बजे एक पीसीआर कॉल आई थी कि डाबरी इलाके में एक सीएनजी पंप के पास एक महिला का शव पड़ा हुआ था। उसके माथे और प्राइवेट पार्ट पर जलने के निशान थे, तब महिला की शिनाख्त नहीं हो सकी थी।

उन्होंने कहा कि हमने आसपास के इलाकों में पूछताछ करने और उसकी पहचान करने के लिए लापता व्यक्तियों के रिकॉर्ड की जांच करने के लिए टीमों को भेजा। तब महिला की पहचान की गई। हमने फिर सीसीटीवी फुटेज की जांच की और घटनाओं के क्रम का पता लगाने और आरोपियों की पहचान करने के लिए मुखबिरों को काम पर लगाया।

तकनीकी सबूतों के आधार पर, पुलिस ने गुरुवार को कहा कि 17 साल के किशोर को उनके बीच लड़ाई के बाद महिला की कथित तौर पर हत्या करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है।

उन्होंने कहा कि हमने शव को ठिकाने लगाने के लिए इस्तेमाल की गई मारुति वैन और अपराध में इस्तेमाल किए गए लोहे के पाइप को भी बरामद कर लिया है। किशोर को पकड़ लिया गया है और आगे की जांच जारी है।"


पुलिस ने कहा कि आरोपी पर भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 302 (हत्या) और (201) के तहत अपराध के सबूत मिटाने का मामला दर्ज किया गया है।