नई दिल्ली । राजधानी दिल्ली में मंगलवार के बाद दो दिन फिर तेज हवाओं के साथ भारी बारिश होने की संभावना जताई गई है। मौसम विभाग की ओर से इसके लिए ओरेंज अलर्ट भी जारी किया गया है। सोमवार के दिन भी दिल्ली के अलग-अलग हिस्सों में हल्की बरसात हुई। दिल्ली के लोगों के लिए सितंबर के महीने में बारिश के दिन अभी बचे हुए हैं।

मौसम विभाग का अनुमान है कि बुधवार और गुरुवार को दिल्ली के अलग-अलग हिस्सों में तेज हवाओं के साथ जोरदार बरसात हो सकती है। इन दोनों दिनों में हवा की रफ्तार 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटे तक की रह सकती है। जबकि, बुधवार के दिन मध्यम स्तर की बरसात और गुरुवार के दिन दिल्ली के ज्यादातर हिस्सों में मध्यम तो कहीं-कहीं भारी बारिश होने की संभावना है। इन दोनों ही दिनों के लिए ओरेंज अलर्ट जारी किया गया है। इस बीच दिल्ली के कई इलाकों में सोमवार के दिन हल्की बरसात हुई। दिल्ली के सफदरजंग मौसम केन्द्र में 3.5 मिलीमीटर बरसात रिकार्ड की गई है। मंगलवार के दिन भी दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में हल्की बरसात हो सकती है।

दिल्ली के ज्यादातर हिस्सों में सोमवार की सुबह हल्के बादल छाए रहे। दिन चढ़ने के साथ ही धूप निकलने लगी। लेकिन, दस बजे के बाद से फिर बादल छाने लगे। इसके साथ ही बूंदाबांदी और बारिश हुई। इसके चलते तापमान में तेजी से इजाफा नहीं हुआ। दिल्ली के सफदरजंग मौसम केन्द्र में दिन का अधिकतम तापमान 33.4 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया जो कि इस मौसम का सामान्य तापमान है। वहीं, न्यूनतम तापमान 26.5 डिग्री सेल्सियस रहा जो कि सामान्य से एक डिग्री ज्यादा है। यहां प आर्द्रता का स्तर 97 से 73 फीसदी तक रहा। इसके चलते थोड़ी उमस का अहसास भी हुआ।

वहीं, मौसम की इन गतिविधियों के चलते दिल्ली की हवा अपेक्षाकृत साफ-सुथरी बनी हुई है। केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मुताबिक सोमवार के दिन का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक 89 के अंक पर रहा। इस स्तर की हवा को संतोषजनक श्रेणी में रखा जाता है। सफर का अनुमान है कि बारिश और तेज हवाओं के चलते वायु गुणवत्ता का यह साफ-सुथरा क्रम अभी बना रहेगा।