नई दिल्ली। दिल्ली की अदालत ने छत्रसाल स्टेडियम में हुए पहलवान सागर राणा हत्याकांड मामला आगे की सुनवाई के लिए सत्र न्यायालय को सौंप दिया है। इस मामले में ओलंपिक पदक विजेता पलवान सुशील कुमार आरोपी है। अदालत ने सोमवार को यह फैसला सुशील कुमार और अन्य के खिलाफ हत्या, अपहरण और साजिश के आरोपों के तहत दाखिल आरोप पत्र पर संज्ञान लेने के बाद किया।

रोहिणी कोर्ट के मुख्य महानगर दंडाधिकारी (सीएमएम) सतवीर सिंह लाम्बा की अदालत ने यह मामला सत्र न्यायालय को सौंप दिया। हालांकि, इस मामले को किसके समक्ष सूचीबद्ध किया जाएगा, इसका फैसला अब तक नहीं किया गया है। सुशील कुमार के वकील ने बताया कि इस मामले की अगली सुनवाई के लिए 24 सितंबर की तारीख तय की गई है।

सुबह सीएमएम के समक्ष हुई मामले की सुनवाई के दौरान सुशील कुमार और अन्य आरोपियों को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये अदालत के समक्ष पेश किया गया और उन्होंने अपनी हाजिरी दी। सुशील कुमार इस समय तिहाड़ जेल में कैद है।

उल्लेखनीय है कि सुशील कुमार और अन्य पर आरोप है कि उन्होंने चार मई की रात को पूर्व जूनियर राष्ट्रीय कुश्ती चैम्पियन सागर राणा और उसके दोस्तों के साथ कथित संपत्ति विवाद को लेकर मारपीट की। सागर की बाद में पिटाई से आई चोट की वजह से मौत हो गई। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में सामने आया कि सागर की मौत किसी भारी वस्तु से दिमाग में आई चोट की वजह से हुई।


दिल्ली पुलिस ने तीन अगस्त को मामले में चार्जशीट दाखिल की थी जिसमें ओलंपिक पदक विजेता कुश्ती खिलाड़ी सुशील कुमार को मुख्य आरोपी बनाया गया है। न्यायाधीश ने अंतिम रिपोर्ट पर छह अगस्त को संज्ञान लिया।

पुलिस ने बताया कि स्टेडियम के पास हुई घटना सुशील कुमार की साजिश थी जो युवा कुश्ती खिलाड़ियों के बीच अपना वर्चस्व स्थापित करना चाहता था। चार्जशीट में पुलिस ने मृत्यु से पहले सागर की ओर दिए गए बयान, आरोपी की लोकेशन सहित वैज्ञानिक सबूत, सीसीटीवी तस्वीर, हथियार और मौके पर बरामद वाहन का जिक्र किया है।