नई दिल्ली। दिल्ली-एनसीआर के अलग-अलग इलाकों में बुधवार को कुट्टू का आटा खाने से करीब 550 से अधिक लोगों में फूड प्वॉइजनिंग के मामले सामने आए हैं। सभी मरीजों की हालत खतरे से बाहर है और उन्हें इलाज के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है।

इतनी बड़ी संख्या में फूड प्वॉइजनिंग के केस सामने आने के बाद अस्पतालों में हड़कंप मच गया।

जानकारी के अनुसार, सबसे अधिक मामले पूर्वी दिल्ली के कल्याणपुरी, त्रिलोकपुरी, खिचड़ीपुर के अलावा महरौली में अलग-अलग इलाकों से सामने आए हैं। दरअसल, यहां पर नवरात्र के व्रत के दौरान कुट्टू का आटा खाने के बाद 490 लोगों की तबीयत बिगड़ गई और बुधवार सुबह उन्हें नजदीक के लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल में भर्ती कराया गया।

लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉक्टर हरीश मनसुखानी ने बताया कि मंगलवार रात 12 बजे से अभी तक 490 लोग इलाज के लिए लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल आए हैं। कुछ ही लोगों को थोड़ी देर के लिए भर्ती किया गया था। सब लोग प्राथमिक उपचार के बाद घर जा रहे हैं। यह फूड प्वॉइजनिंग का मामला है। सभी लोग पूर्वी दिल्ली के इलाके के हैं।


वहीं, ग्रेटर नोएडा की रबूपुरा कोतवाली के गांव जोनचाना में भी व्रत के दौरान कुट्टू का आटा खाने से करीब 15 लोगों की तबीयत बिगड़ गई। सभी को स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

कुट्टू का आटा खाने से 50 लोग बीमार

ऐसा ही मामला गाजियाबाद जिले के मोदीनगर नगर की सीकरी फाटक कॉलोनी में भी सामने आया है। यहां भी कुट्टू का आटा खाने से एक ही कॉलोनी के 50 से अधिक लोग बीमार हो गए। दस से अधिक लोगों की हालत गंभीर बनी हुई है। बताया जा रहा है कॉलोनी के लोगों ने एक ही दुकान से कुट्टू का आटा खरीदा था। रात 12 बजे के आसपास कुट्टू का आटा खाने से सभी की तबीयत खराब होनी शुरू हो गई। लोगों की तबीयत खराब होने से कॉलोनी में अफरा-तफरी मच गई। बुधवार सुबह होने से नाराज लोगों ने दुकानदार के खिलाफ जमकर हंगामा किया। लोगों का आरोप है कि दुकानदार पर मिलावटी आटा देने का आरोप लगाया।दुकानदार का कहना है कि वह कुट्टू गाजियाबाद से लाया था और निवाड़ी रोड स्थित एक आटा चक्की पर पिसवाया था।