नई दिल्ली | एक कारोबारी ने अपने दोस्त से उधार ली रकम समय से नहीं लौटाई जिससे गुस्साएं युवक ने अपने एक अन्य दोस्त के साथ मिलकर कारोबारी की हत्या कर दी।

दोनों आरोपियों ने हत्या के बाद युवक के शव को मंगलम मार्ग पर फेंक दिया और फरार हो गए। आनन्द विहार थाना पुलिस ने 3 मार्च को मामले में दोनों आरोपियों रजनीश जैन और शमशेर सिंह को गिरफ्तार किया है। आरोपी रजनीश जैन टैक्स कंसल्टेंट और टैक्स फाइलिंग और शमशेर सिंह प्रॉपर्टी डीलर का काम करते हैं। दोनों के पास से पुलिस ने एक कार और बाइक बरामद की है।

पुलिस उपायुक्त आर. सत्यसुंदरम ने बताया कि आनन्द विहार थाना पुलिस को मंगलम मार्ग पर 23 जनवरी को एक शव मिला था। मृतक के पास से पहचान संबंधी कोई दस्तावेज बरामद नहीं हुए थे। पुलिस उसकी पहचान का प्रयास कर रही रही थी कि 4 फरवरी को मृतक के भाई ने जिपनेट पर उसका फोटो देखा और वह पुलिस को पास पहुंचा। मृतक की पहचान का कारोबारी दीपक कुमार लोनी में अपने परिवार के साथ रहते थे और छोटा बाजार शाहदरा में बिजली के उपकरण बेचने की दुकान चलाने के साथ मैकेनिक का काम भी करते थे।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद हुआ केस दर्ज
पुलिस ने मृतक की पहचान होने के बाद उसका पोस्टमार्टम करवाया गया। पोस्टमार्टम के बाद भी दीपक की मौत का कारण स्पष्ट नहीं हो पा रहा था। ऐसे में पुलिस ने कार्रवाई के लिए पीएम रिपोर्ट आने का इंतजार किया। 1 मार्च को पीएम रिपोर्ट आई, जिसमें दीपक की मौत का कारण गला दबाकर और उसके शरीर पर लगी चोट थी। एसएचओ सुनील शर्मा, एसआई विक्रांत की टीम ने 1 मार्च को ही हत्या की धारा में केस दर्ज किया और छानबीन शुरू की।

मृतक के भाई ने पूछताछ में बताया कि दीपक ने कुछ जानकारों से उधार पैसे लिए हुए थे। जिन्हें वह लौटा नहीं पा रहा था। ऐसे में पुलिस ने दीपक की सीडीआर और मौत से पहले उसकी लोकेशन की जांच की तो सामने आया कि दीपक उधारी मांगने वाले लोगों से परेशान होकर अर्जुन नगर स्थित अपने फ्लैट पर रूका हुआ था। 22 जनवरी की देर रात को दीपक के फ्लैट पर उसके दोस्त रजनीश की फोन लोकेशन एक जगह ही थी। पुलिस ने रजनीश को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की। आरोपी ने सख्ती से पूछताछ करने पर अपना जुर्म कबूल कर लिया।

एक लाख रुपए के लिए की हत्या
आरोपी ने बताया कि 22 जनवरी की वह दीपक के पास पैसे मांगने के लिए पहुंचा था। लेकिन इस दौरान दोनों के बीच बहस शुरू हो गई। बहस के दौरान आरोपी ने दीपक का गला दबा दिया। दीपक की मौत के बाद शमशेर के साथ मिलकर उसकी गाड़ी से शव को ठीकाने लगा दिया।