नई दिल्ली | लॉकडाउन की तुलना में अनलॉक रसोई का बजट बिगाड़ रहा है। सब्जियों के दाम अनलॉक के दौरान बेतहाशा बढ़ रहे हैं। देश के अलग-अलग हिस्सों में आलू 50 रुपये तक पहुंच गया है वहीं टमाटर 80 से 100 रुपये।

जबकि, प्याज भी अब रुलाने लगा है। उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय की वेबसाइट के मुताबिक एक दिन पहले आलू 20 से 50, प्याज 12 से 50 और टमाटर 20 से 100 रुपये बिक रहा था।

दिल्ली-एनसीआर सहित देश के कई हिस्सों में जो सब्जियां 20 से 30 रुपये प्रति किलोग्राम बिकते थे, उन्हीं सब्जियों के दाम अब वो शतक लगा रहे हैं। दिल्ली की मंडियों में टमाटर 60 से 80 रुपये प्रति किलोग्राम तो आलू 40 रुपये प्रति किलोग्राम बिक रहा है।ब्रोकली  400 रुपये प्रति किलोग्राम पहुंच गई है।  


देश के प्रमुख शहरों में आलू, टमाटर और प्याज का रेट
केंद्र     आलू     प्याज     टमाटर
शिमला     50     25     60
ईटानगर     50     50     100
पोर्ट ब्लैर     50     35     60
धारवाड़     48     25     40
नासिक     45     33     37
मुंबई     43     40     56
तुरा     40     40     100
जबलपुर     37     28     55
चेन्नई     37     22     40
दिल्ली     36     25     54
लुधियाना     35     25     50
रायपुर     35     25     45
दरभंगा     34     24     50
अगरतला     34     28     63
पंचकुला     32     25     50
पटना     32     25     60
भुवनेश्वर     32     24     40
कटक     32     25     50
राउरकेला     32     23     50
कोलकाता     32     25     60
मालदा     32     25     80
खडगपुर     31     24     80
चंडीगढ़     30     20     35
भोपाल     30     18     50
ग्वालियर     30     13     50
रीवा     30     12     45
सागर     30     15     50
भागलपुर     30     15     40
मुजफ्फरपुर     30     19     52
हिसार     25     18     40
करनाल     25     20     45
गुड़गांव     25     20     50
श्रीनगर.     25     30     40
इंदौर     25     20     55
पूर्णिया     25     15     80
सिलिगुड़ी     20     20     45
अधिकतम मूल्य     50     50     100
न्यूनतम मूल्य     20     12     20
मॉडल मूल्य     30     25     40

सितंबर से काबू में होंगे दाम

लॉकडाउन खुलने के बाद से ही सब्जियों के दामों में लगातार तेजी आ रही है। मार्च से लेकर जुलाई के शुरुआत तक सब्जियों के दाम सामान्य थे, लेकिन जुलाई के दूसरे सप्ताह से सब्जियों के दामों में तेजी आनी शुरू हो गई है। अब हर सप्ताह सब्जियों के दाम बढ़ते जा रहे हैं, जिससे लोगों के घर का बजट बिगड़ रहा है। आजादपुर सब्जी मंडी के अध्यक्ष और ट्रेडर राजेंद्र शर्मा कहते हैं, ' बरसात के समय में अक्सर मंडियों में सब्जियों की सप्लाई कम हो जाती है। इससे सब्जियों की कीमतें एक दम से बढ़ जाती हैं, लेकिन सितंबर से लेकर मार्च तक स्थिति सामान्य रहती है। यह कोई नई बात नहीं है 10 सितंबर से सब्जियां सस्ती होनी शुरू हो जाएंगी।''